गुरुवार, 22 जून 2017

न जाने....

न जाने कब खर्च हो गए....पता ही न चला..
वो लम्हे, जो छुपा कर रखे थे जीने के लिए ...

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट